कंप्यूटर क्या है? |What is Computer in Hindi

कंप्यूटर क्या है? | Computer in Hindi: क्या आप जानते हे कंप्यूटर की परिभाषा क्या हे? आज इस लेख में हम आपको कंप्यूटर के बारे में डिटेल में बताएँगे. पिछले करीब 40 वर्षों में दुनियाँ बहुत ज्यादा बदली है। आज हम लोगों के पास जितनी सुविधाएँ मौजूद है, उतनी आज के पहले कभी नही थी। लेकिन यह सब एक ऐसी Device के कारण हुआ है जिसे हम Computer कहते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे What is computer in hindi. Computer के कारण ही दुनियाँ आज इतनी Advance हुई है। आज इस आर्टिकल में हम कंप्यूटर की विशेषताएं और इतिहास के बारे जानेंगे, और जानेंगे कि किस तरह से एक कमरे में रखा जाने वाला कंप्यूटर आज इतना छोटा हो चुका है, कि उसे अपनी गोद मे रख सकते हैं।

कंप्यूटर क्या है? | Computer in Hindi

कंप्यूटर एक मशीन है जिसे कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के माध्यम से स्वचालित रूप से अंकगणितीय या तार्किक संचालन के अनुक्रम को पूरा करने के लिए निर्देश दिया जा सकता है। आधुनिक कंप्यूटरों में संचालन के सामान्यीकृत सेटों का पालन करने की क्षमता होती है, जिन्हें प्रोग्राम कहा जाता है। ये प्रोग्राम कंप्यूटरों को बहुत व्यापक कार्य करने में सक्षम बनाते हैं.

आज हम जिस तरह के computer देखते हैं और उनमें काम करते हैं, उनका स्वरूप और क्षमता शुरुआती Computer से कई गुना बढ़ चुका है।लेकिन फिर भी Computer का मुख्य काम आज भी वही है जो पहले था। Computer जो कि एक लैटिन शब्द computare से बना हुआ है।

यदि इसका English में शाब्दिक अर्थ देखे तो इसका मतलब है Calculation. यानी कि Computer एक कैलकुलेशन करने की >कंप्यूटर क्या है? | Computer in Hindiं मे काम करता है, जिसका पहला चरण होता है, Input. इसके बाद दूसरा चरण है Processing करने का। फिर आखिरी में Output आता है।

दुनियाँ का बड़ा से बड़ा कंप्यूटर भी इन्ही तीन Steps को follow करता है। input का मतलब होता है, Computer में अपना प्रश्न डालना।यदि आम भाषा मे कहे तो इनपुट का अर्थ है Computer को यह बताना की हम क्या चाहते हैं। इसके बाद Computer उस Input Data का आकलन करता है, और परिणाम में बदल देता है।

इसके बाद आता है तीसरा और Last Step जिसमे Computer हमें परिणाम दिखाता है, जिसे हम output करते हैं।इन तीनों Steps को करने के लिए computer में अलग अलग तरह के Device या सॉफ्टवेयर मौजूद होते हैं।input का काम हम आमतौर पर keyboard या Mouse की मदद से करते हैं, इसलिए इन्हें Input Tools कहा जाता है।

जबकि Processing का काम Computer का Software करता है, और Output दिखाने का काम Output tool करते हैं, जैसे कि Computer Screen, Printer आदि। आजकल के Computer बहुत तेज हो गए हैं। Input देने के कुछ सेकंड में ही हमें Output भी मिल जाता है, लेकिन पहले ऐसा नही है। Output के लिए कई घंटों का इंतजार करना होता था।

कंप्यूटर का फुल फॉर्म | Computer Full Form in Hindi

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया कि computer शब्द का Origin लैटिन भाषा का एक शब्द है, जिसका अर्थ होता है गणना करना। यदि बात करें Full Form of Computer की तो ऐसा कोई भी Full Form नही है। एक unstandrized Full form हे:

C = Commonly

O = Operated

M = Machine

P = Particularly

U = Used for

T = Teaching

E = Education और

R = Reasearch

Computer खुद में एक पूरा Word है,जिसका खुद का एक मतलब है। Computer Hardware और sofware से बनी एक ऐसी मिश्रित मशीन है, जिसका उपयोग कम अपने काम को आसान बनाने के लिए करते हैं। पहले कंप्यूटर का बहुत सीमित उपयोग होता था, लेकिन आज छोटी से बड़ी बड़ी जगहों में कंप्यूटर उपयोग होने लगा है।

Computer के बोहोत सारे Other फुल फॉर्म भी हे वो हे:

  1. Common Operating Machine Particularly Used for Technical, Education, and Research
  2. Common Oriented Machine Particularly Used for Trade Education and Research
  3. Complicated Office Machine Put Under Tremendous Effort to Reduce manpower
  4. Common Operating Machine Particularly Used For Trade Education And Research
  5. Common Operating Machine Particularly Used For Technical And Research
  6. Common Operating Machine Particularly Used for Training, Education, and Reporting
  7. Computing Oriented Manipulation Programming Used in Technology Education and Research
  8. Commonly Oriented Machine Particularly Used for Trade Education and Research
  9. Common Oriented Machine Purely Used for Technical and Educational Research
  10. Common Operating Machine Particularly Used for Trade, Education, and Research
  11. Common Operations Made Possible Under Technical Engineering Researches
  12. Commonly Operating Machine Particularly Used for Technical and Education Research
  13. Commonly Operated Machine Particularly Used in Technical Education and Research
  14. Capable Of Making Perfectly Uncomplicated Tasks Extremely Rigorous.

कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया?

Computer से पहले ऐसा कोई Device नही था, जो चीजों की Analysis कर सके। लेकिन जब Computer आया तो यह इस तरह की पहली मशीन बना।

Computer का आविष्कार ब्रिटेन के गणितज्ञ Charles Babba>कंप्यूटर का फुल फॉर्म | Computer Full Form in Hindi हैं इसमे कई वैज्ञानिकों का योगदान है, लेकिन जब पहला Computer बना था वह देखने मे बिलकुल भी ऐसा नही था।

उसका न सिर्फ स्वरूप बहुत अलग था बल्कि काम करने के क्षमता भी बहुत ही कम थी। लेकिन धीरे धीरे नई नई Technology आती गई, कई नई तरह की खोजें हुई, जिनका फायदा कंप्यूटर को मिला, और computer Modern होने लगा।

कंप्यूटर के विभिन्न प्रकार हिंदी में|Types of Computer in Hindi

Computer का विभाजन यदि समझना हो तो सबसे पहले यह जानना पड़ेगा कि कंप्यूटर का विभाजन कितने प्रकार का होता है।

Computer को तीन अलग अलग प्रकार से बांटा गया है:-

  1. कार्य करने के तरीके पर
  2. कंप्यूटर के उद्देश्य को आधार बनाकर
  3. कंप्यूटर के आकार के अनुसार.

कार्य करने के तरीके पर

कार्य करने के तरीके के आधार पर कंप्यूटर तीन तरह के होते हैं, Analog, Digital और Hybrid.

Analog Computers:

जो Computers जानकरी दिखाने के लिए analog signal का उपयोग करते हैं, उन्हें Analog Computer कहते हैं। Analog Data के Processing के लिए ही Analog computer Use होते हैं।

इस तरह के Computers में Temperature, Pressure,Voltage आदि काफी मायने रखता है। इस तरह के Data का Nature Continue होता है, इस वजह से ऐसे System का उपयोग उन जगहों पर किया जाता है जहां continuous physical quantity को मापना हो। जैसे कि current flow, temperature, blood pressure, heart beats आदि। जो सबसे पहले Computers थे वो Analog Computers ही थे।

Digital Computer:

Digital Computer की खास बात यह होती है कि इनकी Speed Analog Computer की तुलना में ज्यादा है और ये ज्यादा Accuracy के साथ काम करके देते हैं।

यदि बात करे कि ये किस तरह से analog system से अलग है तो ये Binary Number की भाषा जानते हैं। यानी कि 0 और 1. इनमें कोई भी इनपुट जब हम डालते हैं तो वह binary भाषा मे बदल जाता है। इसके बाद Processing का काम होता है, फिर जब output आता है तो Binary language वापस Electrical Laguage में बदल जाता है और हमें Output मिलता है।

Hybrid Computers:

जैसा कि नाम से पता चलता है कि यह Mix है। Hybrid Computer को Analog और Digital को मिलाकर बनाया जाता है। इसमे उन सभी चीजों को लगाया जाता है जो दोनों तरह के Computer में Best है।

इस वजह से ये System analog और digital दोनों तरह के data को समझ सकते हैं। हालांकि इनका उपयोग अभी सिर्फ Special कामों के लिए ही होता है। जैसे कि पेट्रोल पंप में अस्पताल में, आर्मी में और कुछ Scienctific कैलकुलेशन के लिए भी उपयोग होता है।

कंप्यूटर के उद्देश्य को आधार बनाकर

उद्देश्य के आधार पर Computers दो तरह के होते हैं।
General Purpose Computers और Special Purpose Computers.

General Purpose Computers:

हम सब लोग जो computers उपयोग करते हैं वो सभी इसी श्रेणी में आते हैं। General Purpose Computers की खासियत यह होती है कि इनमे किसी भी तरह के Software Install किये जा सकते हैं।

इन Software की मदद से>कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया?कता है। इनकी मदद से Manufacturing से जुड़े काम, Writing और editing से जुड़े काम आदि कर सकते हैं।

Special Purpose Computers:

इस तरह के Computer किसी एक काम के लिए ही बनाये जाते हैं । यानी इनके माध्यम से क्या करवाना है वह पहले से ही Decide होता है, और इन्हें वही काम करने के अनुरूप बनाया भी जाता है।

इनका उपयोग intensive Video Games, traffic lights control system, navigational system, automotive industries,Robot helicopter,मौसम का हाल जानने जैसे कई कामों में किया जाता है।

कंप्यूटर के आकार के अनुसार

Size के आधार पर Computer के इतने प्रकार हैं:-

Super Computer:

ये Computer सबसे ज्यादा क्षमता और Memory वाले होते हैं। ये multi-user, multiprocessor होते हैं। इनकी Speed इतनी तेज होती है कि Super Complex Calculation भी ये Nano Seconds में कर देते हैं।

दुनियाँ में इनसे तेज़ कोई दूसरा Computer नही होता है। इन्हें सिर्फ स्पेशल उद्देश्य के लिए बनाया जाता है। जैसे कि वैज्ञानिक गणना के लिए या किसी engineering Problem को Solve करने के लिए ऐसे Computers बनाये जाते हैं।

Main Frame Computer:

Main Frame Computer Computers भी Super Computers क>कंप्यूटर के विभिन्न प्रकार हिंदी में|Types of Computer in Hindiते हैं। यदि बात की जाए इनमें और Super Computers में अंतर की तो अंतर बस इतना है कि Super Computer अपनी पूरी क्षमता सिर्फ एक Task को करने में लगाता है जबकि Mainframe Computers एक साथ कई काम कर सकते हैं।

Mini Computer:

ये एक Multi User Computer होते हैं, जो कि कई तरह के टास्क कर सकते हैं। जिनका अधिकतर उपयोग Business Organisation में होता है। सा>कार्य करने के तरीके परAnalog Computers:लिए इसका उपयोग करते हैं। ये Micro computer की तुलना में ज्यादा Powerful और महंगे होते हैं।

Micro Computer:

Micro-Computers जिन्हें हम Personal Computers भी कह सकते हैं। इनको बनाया ही इसीलिए गया था कि आम लोग भी छोटे मोटे काम मे computer का उपयोग करें। इसका नाम Micro Computer इस लिए पड़ा क्योंकि इनमें Micro Processer का उपयोग होता है।

Laptop Computers:

ये बहुत ही छोटे और Portable होते हैं, इसलिये आजकल इनका ज्यादा चलन है। हालांकि ये computer के जितने Powerful नही होते हैं, लेकिन कई Task करने में सक्षम होते हैं।

Palmtop Computer:

लोगो की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए वैज्ञानिक नए नए तरह के Computers बनाते रहते हैं। कुछ लोग Laptop से भी खुश नही थे क्योंकि कही ना कही इसे भी बिजली की जरूरत तो पड>Digital Computer:ाज़ इलाकों के लिए एक PALMTOP Computer बनाया, जिसे अधिकतर Researcher लोग Use करते हैं, जो बीहड़ जैसे इलाकों में रहते हैं। इसे चलाने के लिए न तो आपको टेबल की जरूरत न ही गोद की। इसे अपनी हथेली में रखकर भी चला सकते हैं।

Computer का इतिहास:

Abacus दुनिया का पहला कंप्यूटर है Abacus लकड़ी का बना हुआ रैक होता है जिसमें सिर्फ calculation किए जाते हैं । computer का आविष्कार चार्ल्स बैबेज ने किया था ।

चार्ल्स बैबेज को computer का पिता भी माना जाता है इन्होंने सन् 1822 में differenial Engine के नाम से Mechanical computer बनाया था।

जैसे-जैसे computer develop होता गया इसको Generations के रूप में बांट दिया गया generation को 5 भागों में बांटा गया है।

First Generation (1940 – 1956)>Hybrid Computers:

े computer में Vacuum Tubesका use किया गया। इस Generation के computer का आकार बड़ा होता था । इन computer को प्रयोग करना महंगा होता था क्योंकि इनको चलाने में बिजली ज्यादा खर्च होती थी।

Second Generation (1956 – 1963):

Second Generation के कंप्यूटर में Vacuum tube की जगह Transistor का use किया गया Transistor Vaccum tube की तुलना में बिजली की खपत कम करते थे इनको चलाना सस्ता हो गया । Transistor का उपयोग Vacuum tube की अपेक्षाकृत अधिक गति एवं विश्वसनीयता प्रदान की ।

Third Generation (1964 – 1971):

Third Generation के computer में Transistor के जगह Integrated Circuit का use किया जाने लगा। Integrated Circuit size में काफी छोटे थे ।

Third Generation की computer की speed और ज्यादा तेज हो गई ,और इसके साथ ही साथ keyboard, mouse, printer , और monitor का भी यूज़ किया जाने लगा जिसके लिए Operating system का use किया गया।

Fourth Generation (>General Purpose Computers:

नाकर Generation के कंप्यूटर में Microprocessor का इस्तेमाल किया गया हैं जिससे हजारों व्यक्ति Integrated Circuit को एक ही Silicon chip में Embedded किया गया हैं।

Fifth Generation (1985 से अब तक):

इस पीढ़ी के computer’s में कंप्यूटर वैज्ञानिक कृत्रिम बुद्धिमत्‍ता (Artificial Intelligence) को समाहित करने के लिए प्रयासरत हैं।

Computers की विशेषताएं | Features, and Characteristics of Computers

Computer परिस्थितियों का विश्लेषण कर जल्दी ही result देता है यह कोई भी कार्य जैसे गुणा ,भाग ,जोड़ ,घटाना आदि सभी कार्य को शीघ्र हल कर निर्णय लेता है।

Storage –

Computer में Hard disk,Floppy disk, CD आदि हैं, जिसमें डेटा और जानकारी संग्रहीत की जा सकती है।

>Special Purpose Computers:ter एक साथ लाखों गणनाएँ कर सकता हैं । पूरे साल में किए जाने वाले कार्य को computer कुछ ही second में कर लेता है । कंप्यूटर की गति मानव से बहुत अधिक होती हैं ।

गलती रहित कार्य –

Computer के कार्य में गलतियां नही होती हैं यदि program या Data में कोई लगती पायी जाती है , तो वह माननीय गलतियों के कारण है । Data और program में गलतिया Virus के कारण उत्पन्न हो जाती है ।

गोपनीयता –

Password के प्रयोग से कार्य को गोपनीयता बनाया जा सकता है । Password के प्रयोग से computer में रखे data और कार्यक्रमों को केवल password जानने वाला व्यक्ति ही open कर सकता हैं ।

भरोसेमंद –

Computer के कार्य में विश>Super Computer:4%BE%E0%A4%B0">कंप्यूटर के आकार के अनुसारter को आदेश देकर एक ही कार्य को बार बार भरोसे के साथ किया जाता हैं ।

विविधता –

Computer की सहायता से विभिन्न प्रकार के कार्य किया जाता हैं। Computer में अलग अलग तरह के कार्य एक साथ करने की क्षमता होती हैं ।

Computer आज की आवश्यकता?

आज के समय में Computer सीखना बहुत ही जरूरी हो गया है आप चाहे जिस field में भी देखें computer का use हर जगह होता है, Bank, School, Railway stations और तो और हम घर में भी computer का ही use करते हैं।

आपने अपने घर में TV तो जरूरी देखी होगी वह भ>Main Frame Computer:ें या फिर कोई Movie या सीरियल देख रहे हो बिना computer Internet की यह देख पाना नामुमकिन है.

Mobile पर किसी से बात करना या Video calling करना या ATM से पैसे निकालना यह सब computer की मदद से ही संभव है Government vaccines online आती है।

इसके form online भरे जाते हैं और आजकल तो Examsbभी online ही होने लगे हैं और result भी online ही आता है यह सब computer और internet के कारण ही संभव है।

आप computer सीखने के बाद अपने घर पर ही बिजली का बिल , फोन का बिल, टीवी का बिल, टिकट बुकिंग , ऑनलाइन शॉपिंग यह सब घर पर ही कर सकते हैं इसके लिए आपको लंबी लाइन में नहीं लगना पड़ेगा।

Computer courses क्या क्या हे?

  • DCA
  • BCA
  • PGDCA
  • COMPUTERIZED ACCOUNTING
  • CADD (COMPUTER AIDED DESIGN AND DRAWING) Course
  • Digital Marketing Cours>Mini Computer:Courses
  • सोफ्टवेयर टेस्टिंग कोर्स
  • नेटवर्किंग कोर्स
  • डेटाबेस एडमिनिस्ट्रेशन कोर्स
  • डेटा एनालिस्ट, डोमेन एनालिस्ट कोर्स
  • इनफॉर्मेशन सिक्योरिटी कोर्स

Conclusion (निस्कर्स):

दोस्तों आज के इस आर्टिकल पे बस इतना ही था. I hope आप सबको what is computer in hindi के बारे में पूरी जानकारी मिल गये होंगे. आशा करता हु की आपको इस आर्टिकल से कुस सीखने को मिला. अगर आपको computer से जुरे और भी>Micro Computer:ाये हम आपको जरुर help करेंगे. और हमारे आज का आर्टिकल कैसा लगा हमे जरुर बताये. अगर आर्टिकल अत्च्चा लगा हे तो आपने दोस्तों को share इ करने के साथ साथ Facebook, twitter, Linkedin पर भी share करना ना भूले. धन्यबाद||

इनको जरुर पढ़े:

>Laptop Computers:ed_list-07f9555e-f7a1-4277-a2fa-04699e508a20">
  • Fifth Generation (1985 से अब तक):Storage –aringRound">
  • गलती रहित कार्य –tps://web.whatsapp.com/send?text=%E0%A4%95%E0%A4%82%E0%A4%AA%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A5%82%E0%A4%9F%E0%A4%B0%20%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%BE%20%E0%A4%B9%E0%A5%88%3F%20%7CWhat%20is%20Computer%20in%20Hindi https%3A%2F%2Foddwit.com%2Fwhat-is-computer>गोपनीयता –k" class="heateorSssSharingSvg heateorSssWhatsappSvg">
  • भरोसेमंद –di/', '%E0%A4%95%E0%A4%82%E0%A4%AA%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A5%82%E0%A4%9F%E0%A4%B0%20%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%BE%20%E0%A4%B9%E0%A5%88%3F%20%7CWhat%20is%20Computer%20in%20Hindi', '' )" >
विविधता –computer-in-hindi/'>
  • Computer courses क्या क्या हे?onclick='heateorSssPopup("https://web.whatsapp.com/send?text=%E0%A4%95%E0%A4%82%E0%A4%AA%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A5%82%E0%A4%9F%E0%A4%B0%20%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%BE%20%E0%A4%B9%E0%A5%88%3F%20%7CWhat%20is%20Computer%20in%20Hindi https%3A%2F%2Foddwit.com%2Fwhat-is-computer-in-hindi%2F")'>
>Conclusion (निस्कर्स):

Leave a Comment